Wednesday, April 20, 2011

रीति कवि जयगोविन्द महाराज

श्रीनगर-बनैली के राज्याश्रित कवियों में जयगोविन्द महाराज का नाम सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण है। मिश्र बंधुओं ने भी अपनी पुस्तक मिश्रबंधु-विनोद में उनका संक्षिप्त परिचय प्रस्तुत किया है। उन्होंने उनका जन्म 1910 वि. (1843 ई.) और निधन: 1970 वि. (1913 ई.) बताया है। जयगोविन्द महाराज पूर्णिया के बरौरा (श्रीनगर) ग्राम निवासी ब्रह्मभट्ट थे। उनके राजा कमलानंद सिंह ‘साहित्य-सरोज’ (1865-1903 ई.) तथा उनके सगे भाई कुमार कालिकानंद सिंह के आश्रित होने का उल्लेख मिलता है। राजा कमलानंद सिंह के निधन के बाद वे मदारीचक, कटिहार आकर बस गए, जहाँ उनका निधन 1915 ई. के नवंबर महीने (बड़हरा कोठी, पूर्णिया-निवासी अध्यापक रामनारायण सिंह ‘आनंद’ के अनुसार, जो उनकी वृद्धावस्था में उनके निरंतर संपर्क में थे) में हुआ था।
जयगोविन्द महाराज ने 1940 वि. में काव्य-रचना का विधिवत श्रीगणेश किया था। वे रीतिकालीन परंपरा के कवि थे। पिंगल, अलंकार, नायिका-भेद, रस, गुण आदि पर उनका पूरा अधिकार था। उनकी रचनाएँ प्रायः सरस और प्रसाद गुणयुक्त ब्रजभाषा में हैं, जो प्रकृति-चित्राण और भक्ति भावना से ओतप्रोत हैं। वे परम वैष्णव और गीता के अनन्य भक्त एवं उपासक थे। काव्य-सुधाकर (पटना), व्यास पत्रिका और रसिकमित्र (कानपुर, 1898 ई.) में उनकी रचनाएँ एवं समस्यापूर्तियाँ छपा करती थीं। उनके द्वारा लिखित निम्नांकित अप्रकाशित कृतियों का उल्लेख मिलता है-साहित्य पयोनिधि, अलंकार-आकर, कविता-कौमुदी, समस्यापूर्ति और दुर्गाष्टक। अलंकार-आकर की पांडुलिपि का पूर्णिया निवासी साहित्यरत्न रूपलाल के निजी संग्रह में सुरक्षित होने का उल्लेख मिलता है।

1 comment: